मॉर्निंग वॉक के बाद जूस पीना कितना फायदेमंद? जान लें हकीकत!

आजकल मॉर्निंग वॉक के बाद लोगों में जूस पीने का चलन बढ़ा है.ज्यादार पार्कों के पास जूस की दुकानें खुली रहती है और लोग मॉर्निंग वॉक के बाद जूस पीना पसंद करते है जो कि बिल्कुल गलत है.

मॉर्निंग वॉक के बाद जूस पीना कितना फायदेमंद?

मॉर्निंग वॉक के बाद जूस पीना कितना फायदेमंद?

मॉर्निंग वॉक के बाद जूस के side effects:

सुबह-सुबह मॉर्निंग वॉक करना हेल्थ के लिए बेहद फायदेमंद है. इससे मसल्स में मजबूती आती है और बॉडी हेल्दी रहती है. लेकिन कुछ लोग मॉर्निंग वॉक करने के बाद झट से गिलास-दो गिलास जूस गटक जाते हैं. उन्हें लगता है कि जूस से सब कुछ अच्छा हो जाएगा. लेकिन क्या मॉर्निंग वॉक के बाद हर दिन जूस पीना सही है. जूस आमतौर पर फलों का रस होता है. इसमें फलों से रस निकाल लिया जाता है और पल्प को फेंक दिया जाता है.

एक ओर ताजे फल में कई तरह के विटामिंस, मिनिरल्स, कार्बोहाइड्रेट, एंटीऑक्सीडेंट्स जैसे तत्व पाए जाते हैं लेकिन जब फ्रूट्स से रस निकाल कर बाकी चीजों को फेंक दिया जाता है तो इसमें से पूरी तरह से फाइबर और कुछ माइक्रोन्यूट्रेंट्स निकल जाते हैं. इससे कितना फायदा होता है इसके बारे में अपोलो अस्पताल, बेंगलुरु की क्लिनिकल न्यूट्रिशनिस्ट डॉ. प्रियंका रोहतगी से बात की.

डायबिटीज मरीजों में शुगर बड़ाता है जूस:

डॉ. प्रियंका रोहतगी ने बताया कि सबसे पहले तो जूस में से जब पल्प को बाहर निकाल दिया जाता है तो जूस में से फाइबर और कुछ अन्य माइक्रोन्यूट्रेंट्स बाहर निकल जाते हैं. इसके अलावा फ्रूट में फ्रूक्टोज की मात्रा भी बढ़ जाती है. फ्रूक्टोज एक तरह की शुगर के प्रकार है. इसलिए ज्यादा जूस का सेवन वैसे ही डायबिटीज की समस्या को बढ़ा सकता है. जूस में बहुत अधिक कैलोरी होती हैं. करीब एक कप जूस में 117 कैलोरी होती है. इसलिए ज्यादा जूस पीना शरीर के कई चीजों पर असर कर सकता है.

सुबह-सुबह जूस पीना सही नहीं:

डॉक्टरों ने बताया कि मॉर्निंग वॉक के बाद जूस नहीं पीने के कई कारण हैं. सुबह-सुबह पेट खाली रहता है. कुछ जूस एसिडिक नेचर का भी हो सकता है. इसलिए सुबह-सुबह खाली पेट जूस पीने से पेट में एसिड को और अधिक बढ़ा सकता है. डॉ. प्रियंका रोहतगी ने बताया कि सुबह-सुबह जूस पीना वैसे भी सही तरीका नहीं है. सुबह-सुबह आप जूस पीएंगे तो बॉडी का शुगर लेवल दिनभर बढ़ा हुआ रहेगा.

फिर जूस पीने का सही समय क्या है?

डॉक्टरों ने बताया कि या तो आप नाश्ता और लंच के बीच में एक गिलास जूस पीएं या लंच और डिनर के बीच में जूस पी लें. बहुत सुबह या खाली पेट जूस का सेवन न करें.

गैस्ट्रिक के मरीजों को नुकसान:

जो लोग गैस्ट्रिक के मरीज हैं, उनके लिए ज्यादा जूस का सेवन नुकसानदेह हो सकता है. चूंकि जूस से गुदा निकाल लिया जाता है, इसलिए इनमें से फाइबर भी निकल जाता है. फाइबर पाचन शक्ति के लिए बेहद जरूरी है. फाइबर निकलने के कारण पाचन की समस्याएं खड़ी हो जाती है. इससे गैस बनने लगती है. इस कारण जो गैस्ट्रिक के मरीज हैं, उनके लिए नुकसानदेह हो सकता है.

किडनी स्टोन भी बन सकता है:

कुछ लोग मॉर्निंग वॉक के बाद हरी पत्तीदार सब्जियां, चुकंदर, पालक, संतरे आदि का मिक्स फ्रूट जूस पीते हैं. यह मिक्स फ्रूट जूस का डेडली कॉम्बिनेशन है क्योंकि एक तरफ फ्रूट में बहुत अधिक मात्रा में विटामिन सी होता है दूसरी तरफ पालक जैसी चीजों में ऑक्जेलिक एसिड होता है. ऑक्जिलेट ज्यादा बनने से किडनी डैमेज होने लगता है. इसका कारण है कि हरी पत्तियों में ऑक्सीलेट की मात्रा ज्यादा होती है और साइट्रस फ्रूट में विटामिन सी की मात्रा ज्यादा होती है. जूस के पेट में जाते ही विटामिन सी तेजी से ऑक्सीलेट को एब्जॉर्ब कर लेता है.

जब पेट में ऑक्सीलेट की मात्रा बढ़ेगी तो यह छोटे-छोटे क्रिस्टल के रूप में किडनी में जमा होने लगेगा. ये क्रिस्टल किडनी में जाकर किडनी के फंक्शन को ही खराब करने लगते हैं. ट्विटर पर लिवर रोग विशेषज्ञ डॉक्टर एबे फिलिप्स ने लोगों को हिदायत देते हुए कहा है कि इस तरह के रंगीन सब्जियों के साथ फ्रूट जूस का सेवन बिल्कुल न करें. खासकर उन लोगों को तो बिल्कुल नहीं करना चाहिए जिन्हें पहले से लिवर की बीमारी है.

जूस के बजाय किन चीजों का सेवन करना चाहिए.

डॉ. प्रियंका रोहतगी ने बताया कि जूस कभी-कभार चल सकता है लेकिन ज्यादा जूस का सेवन सही नहीं है. इसके बजाय बेहतर होगा कि आप फ्रूट खाएं. फ्रूट में फाइबर की मात्रा ज्यादा रहती है जिसके कारण यह ज्यादा शुगर के असर को कम कर देता है. इसके अलावा फाइबर से अन्य कई तरह के फायदे हैं. उन्होंने कहा कि गर्मी में नारियल पानी, तरबूज, खीरा, नींबू-पानी आदि के सेवन जूस की जगह ज्यादा फायदेमंद रहेगा.

अब आप ये जान गए होंगे कि मॉर्निंग वॉक के बाद जूस पीना कितना फायदेमंद होता है और कितना नुक्सानदेह. ये सब बातों को ध्यान में रख कर ही आपको जूस का सेवन करना चाहिए.

Leave a Comment