जब sunny deol की वजय से सभी superstar के छुटे पसीने.बैक टू बैक दीं 6 ब्लॉकबस्टर

दोस्तो आज हम बात करेगें 90 के दशक की.90 के दशक में बहुत सारे नए एक्टर्स की एंट्री हुई थी. शाहरुख खान से लेकर अक्षय कुमार जैसे सितारों इसी दौरान लाइमलाइट में आए और देखते ही देखते इंडस्ट्री के सुपरस्टार बन गए. आज भी इन एक्टर्स का बॉलीवुड पर राज चलता है. अजय देवगन, सलमान खान, आमिर खान भी इसी दौर के हीरो हैं, जो आज भी बॉलीवुड में एक अलग मुकाम रखते हैं. लेकिन, 90 के दशक में एक और हीरो था, जिसकी फिल्में दर्शकों के बीच खूब पसंद की जाती थीं और आज भी उनका जलवा उतना ही है.ये एक्टर हैं सनी देओल, जिनकी ‘गदर 2’ अब सिनेमाघरों में रिलीज होने वाली है.

Contents hide
1 जब sunny deol की वजय से सभी superstar के छुटे पसीने. बैक टू बैक दीं 6 ब्लॉकबस्टर
जब sunny deol की वजय से सभी superstar के छुटे पसीने
जब sunny deol की वजय से सभी superstar के छुटे पसीने.

जब sunny deol की वजय से सभी superstar के छुटे पसीने. बैक टू बैक दीं 6 ब्लॉकबस्टर

90 के दशक में सनी देओल वह सुपर स्टार थे, जिनका इंडस्ट्री में सिक्का चलता था. उनकी लगभग हर फिल्म हिट साबित होती थी.

90 के दशक में सनी देओल की घातक, घायल, जिद्दी, बॉर्डर, सलाखें और दामिनी जैसी फिल्में रिलीज हुई थीं, जिन्होंने हर स्टार की गद्दी हिला दी थी. इन फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर ताबड़तोड़ कमाई की थी.
घायल (1990) ने 20 करोड़,
घातक (1996) ने 84 करोड़,
जिद्दी (1997) ने 29.25 करोड़,
सलाखें (1998) ने 18.58 करोड़,
बॉर्डर (1997) ने 39 करोड़
दामिनी (1993) ने 11 करोड़
कुल मिलाकर सनी देओल की फिल्मों ने 200 करोड़ से ज्यादा का बिजनेस किया था.

इनमें से दामिनी एक ऐसी फिल्म थी जिसने 1993 में नए-नए रिकॉर्ड सेट किए थे. ऋषि कपूर, मीनाक्षी शेषाद्रि, अमरीश पुरी और परेश रावल जैसे सितारों से सजी फिल्म के डायलॉग खूब लोकप्रिय हुए थे. एक नौकरानी के साथ हुए दुष्कर्म की कहानी के इर्द-गिर्द घूमती नेशनल अवॉर्ड विनिंग इस फिल्म को दर्शकों ने खूब सराहा और समीक्षकों ने भी फिल्म की तारीफों के पुल बांधे.

हर जुबान पर ये फेमस डायलॉग
दामिनी फिल्म का वो सीन, जिसमें सनी देओल अमरीश पुरी से कहते हैं- ‘चिल्लाओ मत, नहीं तो ये केस यहीं रफा-दफा कर दूंगा. ना तारीख, ना सुनवाई सीधा इंसाफ, वो भी ताबड़तोड़’ और ‘तारीख पर तारीख, तारीख पर तारीख, तारीख पर तारीख मिलती रही है. लेकिन, इंसाफ नहीं मिला माय लॉर्ड, इंसाफ नहीं मिला, मिली है तो सिर्फ ये तारीख’ ऐसेे डायलॉग्स पर सिनेमाघरों में खूब तालियां और सीटियां बजी थीं और घातक मूवी का वो सीन भला कौन भूल सकता है जिसमें सनी देओल कात्या को बोलता है ‘ये मजदूर का हाथ है कात्या, लोहे को पिघला कर उसका आकार बदल देता है ‘. ऐसे डायलॉग सुन कर लोग पागल हो जाते थे.
  1. सबसे महंगे सुपरस्टार
  2. सनी देओल 90 के दशक के सबसे महंगे सुपरस्टार थे. उस दौर में उनकी हर मूवी हिट मूवी होती थी. उनकी दमदार आवाज़ और उनके ऐकशन सीन की वजह से हर फिल्म हिट् होती थी. पब्लिक उनकी हर मूवी का बड़ी बेसबरी से इंतजार करते थे.
  3. वैसे भी सनी देओल जब कोई डायलॉग बोलते हैं तो लगता है कि जैसे वह सच में ही विलेन का किस्सा रफा-दफा कर देंगे. सनी देओल के अलावा उनके पिता धर्मेंद्र और विनोद खन्ना ही ऐसे एक्टर थे, जिनकी पर्सनालिटी पर मार-धाड़ वाले डायलॉग खूब फबते थे. जब घायल और घातक जैसी फिल्में रिलीज हुईं, सिनेमाघरों के बाहर दर्शकों की लाइन लग गई.
  4. अब जल्दी ही सनी देओल अपनी ब्लॉकबस्टर फिल्म गदर का सीक्वल लेकर आ रहे हैं, जिसमें फिर उनकी जोड़ी सकीना यानी अमीषा पटेल के साथ जमने वाली है. इस फिल्म का दर्शकों को बेसब्री से इंतजार है.
  5. राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से है संमानित
  6. 1990 में राजकुमार संतोषी के गंभीर और व्यावसायिक रूप से सफल, घायल में अपने भाई की हत्या के आरोपी एक शौकिया मुक्केबाज के चित्रण के साथ,सनी  देओल को व्यापक मान्यता और प्रशंसा मिली। इस फिल्म ने सात फिल्मफेयर अवार्ड जीते  और उनके प्रदर्शन ने उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का फिल्मफेयर अवार्ड और राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार – स्पेशल जूरी अवार्ड / स्पेशल मेंशन  (फीचर फिल्म) प्रदान किया। फिल्म दामिनी – लाइटनिंग (1993) में उनके एक वकील ने उन्हें सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार और सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के लिए फिल्मफेयर पुरस्कार सहित कई प्रशंसाएं दिलाईं। अनिल शर्मा की गदर एक प्रेम कथा (2001), जिसमें देओल ने एक लॉरी ड्राइवर का किरदार निभाया था, जिसे एक मुस्लिम लड़की से प्यार हो जाता है, जो अपनी रिलीज़ के समय सबसे ज्यादा कमाई करने वाली बॉलीवुड फिल्म थी, और उन्हें एक और सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार मिला।

Leave a Comment